.

Friday, March 22, 2019

अबॉर्शन ➦ गर्भपात के नुकसान | Abortion side effect in hindi

author photo
गर्भपात अथवा Abortion एक ऐसी प्रक्रिया है जिसे एक मां कभी नहीं कराना चाहेगी। एक मां बच्चे के जन्म के बारे में ही सोच सकती है वह एक सच में मां है तो वो गर्भपात जैसा कठोर निर्णय कभी नहीं लेगी।

लेकिन कभी-कभी किसी परिस्थिति में जब यदि गर्भ में पल रहा बच्चा खराब हो जाता है या कोई अन्य कारण जैसे कि बच्चे का सही विकास ना हो पाना, बच्चे के अधिकांश अंग खराब होना या कोई अन्य समस्या, तब ऐसी स्थिति मे अबॉरशन कराना पड़ता है। तो आज के इस आर्टिकल में मैं आज आप सभी को बताऊंगी कि अबॉरशन क्या होता है और अबॉर्शन से आपके शरीर पर क्या असर पड़ता है।
अबॉरशन क्या होता है गर्भपात क्या होता है गर्भपात के साइड इफेक्ट गर्भपात के बाद क्या खाए गर्भपात के बाद सावधानियां

गर्भपात क्या होता है:


सीधी भाषा में अगर कहा जाए कि गर्भपात क्या होता है तो आप समझे, गर्भपात गर्भ में पल रहे बच्चे को बाहर निकालने की एक प्रक्रिया है| जैसा कि मैंने आपको पहले भी बताया है कि यदि आपके गर्भ में बच्चा खराब हो गया है तो ऐसी स्थिति में गर्भपात कराना पड़ता है लेकिन आप यदि मां है तो आप जानती हैं की यह कितना दर्दनाक होता है, यदि कोई एक माँ अबॉर्शन करते हुए डॉक्टर को देख ले तो उसे पता चलेगा कि जीवित प्राणी के टुकड़े टुकड़े करके उसे कैसे बाहर निकाला जाता है| इस प्रक्रिया में कभी उसका पैर बाहर निकलता है, कभी आंख अभी निकलती है, कभी मस्तिष्क तो कभी दूसरे अंग यह एक बहुत ही दर्दनाक अवस्था होती है जब बच्चा टुकड़े-टुकड़े होकर बाहर निकाला जाता है| एक डॉक्टर भी जब यह प्रक्रिया कर रहा होता है तो use भी यह करने में बार बार सोचना पड़ता है।

आज के आधुनिक युग में इसका दुरुपयोग हो रहा है जाने अनजाने में लड़कियां शादी से पूर्व या शादी के बाद अबॉर्शन कराती हैं| अबॉर्शन दोनों स्थितियों में होता है कभी कभी गर्भ में पल रहा बच्चा सही भी होता है या कभी कभी खराब भी लेकिन इस बात का आपको ध्यान रखना चाहिए की यह एक सामान्य क्रिया नहीं है यह केवल डॉक्टरों की देखरेख में होता है इसे ना तो घर पर करना चाहिए और ना ही किसी अनट्रेंड दाई अथवा मनुष्य के चक्कर में आकर अबॉर्शन कराना चाहिए| अगर यही स्थिति आपके साथ हो रही है तो आपको केवल अस्पताल में जाकर अपने डॉक्टर को बताना चाहिए और उनकी सलाह लेनी चाहिए।

गर्भपात के साइड इफेक्ट:


मैं आपको पहले भी बताया है कि गर्भपात कोई सामान्य प्रक्रिया नहीं है अगर आप गर्भपात करा रही हैं तो आप यह न सोचें कि गर्भपात कराने के बाद में आपको कोई दिक्कत नहीं आएगी, बार बार गर्भपात कराने वाली महिलाओं को बहुत सी समस्याएं पैदा होती हैं। लगभग 70 से 80 प्रतिशत महिलाएं जो अबॉर्शन कराती हैं उन्हें कई सारी बीमारियां हो जाती है या यूँ कहें की अबॉर्शन कराने के बाद बहुत से साइड इफेक्ट हो सकते हैं तो चलिए जानते हैं गर्भपात के क्या साइड इफेक्ट क्या हो सकते हैं।

1. खून बहने से मां की मृत्यु:


अबॉर्शन की बहुत सी प्रक्रियाएं होती हैं और  यह भी जरूरी है की अबॉर्शन किस महीने में हो रहा है यदि अबॉर्शन जल्दी हो रहा है तो खून की बहने के कम चांस होते हैं और यदि यह देर से हो रहा है मतलब कि आप 12 हफ्ते के बाद गर्भपात करवा रही हैं तो ऐसी स्थिति में गर्भपात के दौरान मां के गर्भ से इतना अधिक खून निकलता है कि उसकी मृत्यु भी हो सकती है।

2. बच्चे ना होने की संभावना:


जी हां अगर कोई महिला बार बार अब और अबॉर्शन कराती है तो डॉक्टरों का कहना है कि अबॉर्शन कराने से उसके गर्भ में दिक्कतें पैदा हो जाती हैं जिससे कि गर्भ में बच्चा नहीं ठहर पाता और भविष्य में मां न बनने की समस्या हो जाती है। ऐसा कोई जरूरी भी नहीं है की बार बार अबॉर्शन कराने से ही यह समस्या उत्पन्न हो, कभी-कभी देखा गया है कि जो महिलाएं केवल एक ही बार अबॉर्शन करतीं हैं उनको भी ऐसी समस्या पैदा हो जाती है आप अबॉर्शन कराने जा रही हैं तो इसका ध्यान रखें कि आपका गर्भपात किस स्थिति में हो रहा है क्या यह होना जरूरी है या नहीं।

3. बच्चेदानी का कमजोर हो जाना:

गर्भपात क्या होता है गर्भपात के साइड इफेक्ट गर्भपात के बाद क्या खाए गर्भपात के बाद सावधानियां


बार बार अबॉर्शन कराने मे यह देखा गया है कि महिलाओं के गर्भ के साथ-साथ बच्चेदानी मे भी कमजोरी आ जाती है जिससे कि गर्भपात अपने आप होता रहता है और बच्चा कभी भी गर्भ में ठहर नहीं पाता और माँ बनने के चांस कम हो जाते हैं। इसलिए अबॉर्शन कराने वाली महिलाओ को डॉक्टर की देखरेक में ही ऐसा कदम उठाना चाहिए|

4. कमजोर या अपंग बच्चा पैदा होना:

गर्भपात क्या होता है गर्भपात के साइड इफेक्ट गर्भपात के बाद क्या खाए गर्भपात के बाद सावधानियां


जैसा कि मैंने आपको बताया है गर्भपात कराने से महिलाओं को अनेक कठिनाइयां होने लगती हैं यदि आपने पहले गर्भपात करवाया है और इसके बाद नए शिशु को जन्म देने के लिए सोच रहीं हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि आपका बच्चा कमजोर या अपंग पैदा हो सकता है इसके लिए आपको गर्भपात केवल डॉक्टर की सलाह से ही करवाना चाहिए और जब आप नए बच्चे के लिए सोचे तो उससे पहले भी आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

5. मासिक धर्म में खराबी:


वैसे तो पीरियड न आने के कई कारण हो सकते हैं कभी कभी देखा गया है कि गर्भपात होने से, अबॉर्शन कराने से महिलाओं में मासिक धर्म में गड़बड़ी होने की समस्या पैदा हो जाती है ऐसी स्थिति में आपको अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए और इसका इलाज कराना चाहिए।

6. कमर दर्द की समस्या:

गर्भपात क्या होता है गर्भपात के साइड इफेक्ट गर्भपात के बाद क्या खाए गर्भपात के बाद सावधानियां


अबॉर्शन कराने वाली महिलाओं को अक्सर देखा गया है कि कमर दर्द जैसी समस्या पैदा हो जाती है इसलिए ऐसी महिलाओं को ज़रूर डॉक्टर को दिखाने जाए और यदि उन्होंने पहले कभी अबॉर्शन कराया है तो इसका जिक्र जरूर करें, हो सकता है आपको दर्द और Abortion कराने पर ही हो रहा हो|

7. श्वेत प्रदर की समस्या:


जब महिलाओं के प्राइवेट पार्ट से एक सफेद तरल पदार्थ निकलता है तो बस श्वेत प्रदर कहलाता श्वेत प्रदर कोई सामान्य समस्या नहीं है कभी नजरअंदाज करना चाहिए महिलाओं को चाहिए कि वह समय रहते इसकी जानकारी अपने डॉक्टर को दें और यदि उन्होंने कभी गर्भपात करवाया है तो इसकी जानकारी अपने देनी चाहिए क्योंकि है कि आपको प्रदर की समस्या बात कराने के कारण ही हुई हो।

यदि  सब कुछ सही है फिर भी आप गर्भपात कराने जा रहीं हैं तो आप प्रकृति के नियमों के विरुद्ध जा रही है आप एक गलत कदम उठा रही है| यदि समस्या जटिल है तो ठीक है, लेकिन आप डॉक्टर की सलाह अवश्य लें| जानबूझकर गर्भपात कराना सही कदम नहीं है इससे आप गर्भ में पल रही संतान को हटाने के अलावा अपने शरीर से भी छेड़छाड़ कर रही है।

जैसा कि आपने अभी जाना कि गर्भपात से महिलाओं को काफी अधिक समस्याएं पैदा हो जाती हैं जिसमें बुखार आना, सिर दर्द होना, रीड की हड्डी में दर्द होना, कूल्हों में दर्द होना और कुछ समस्याएं मैंने आपको पहले ही बता दी हैं, इनमें से भी कोई समस्या आपको हो सकती है गर्भपात आपको तुरंत तो छुटकारा दिला सकती है लेकिन आपको भविष्य के लिए अधिक परेशान कर सकती है कभी पति के विरुद्ध ना जाए एक सुरक्षित गर्भ धारण करें।

गर्भधारण करने के लिए कभी भी जल्दबाजी न करें इसके लिए आपको प्लानिंग करनी होगी आप अपने साथी के साथ मिलकर इसका प्लान तैयार करें और उदाहरण के 6 महीने पूर्व अपने खानपान का विशेष ध्यान रखें हो सके तो अपने परिवार के दो कर या किसी गायनेकोलॉजिस्ट से मिलकर सलाह लें।

गर्भपात के बाद खान पान:

Side effct of abortion in hindi गर्भपात के साइड इफ़ेक्ट food after abortion in hindi


गर्भपात के बाद एक महिला कि शरीर से बहुत अधिक खून बहता है तो स्वाभाविक है कि उसको कमजोरी महसूस होगी इसलिए गर्भपात कराने वाली महिला को ए चाहिए क्यों है पौष्टिक आहार जरूर ले क्या हार में प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट के साथ साथ ऐसी चीजों को भी शामिल करना चाहिए जिससे कि उसके खून में भी बढ़ोतरी हो खून में बढ़ोतरी करने के लिए आयरन लेना अति आवश्यक है इसलिए गर्भपात कराने वाली महिला को अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना चाहिए तो चलिए जानते हैं कैसी महिलाओं को क्या लेना चाहिए।

1. हरी सब्जियों का सेवन करें:


हरी सब्जियों में जैसे पालक मेथी साग,मूली इन सभी को शामिल करना चाहिए क्योंकि हरी सब्जियों में छोटे-छोटे द मौजूद होते हैं जो कि हमारे शरीर को आवश्यक है।

2. प्रोटीन का अधिक सेवन:


गर्भवती महिला को प्रोटीन की आवश्यकता अधिक होती है क्योंकि जब महिला गर्भवती होती है तो उसके शरीर में दो लोगों को भोजन प्रदान करना तो उसे सामान्य से अधिक प्रोटीन लेना पड़ता है। डॉक्टरों की माने तो प्रेग्नेंट लेडी को अपने शरीर के वजन का 1.5 गुना प्रोटीन चाहिये। लेकिन जब ऐसी स्थिति में जब गर्भपात कराना हो तो  भी महिला को प्रोटीन की उतनी ही आवश्यकता है क्यों की यह आपके शरीर को मजबूती देने के साथ मांसपेशियों को भी मजबूत बनाता है|

3. फलों का सेवन करें:

फलों से लाभ का कोई अंत नहीं क्यों की इनके अन्दर बहुत बारीक तत्व पाए जाते हैं जो की हमारे शरीर को बहुत ही ज़रूरी होते हैं| लेकिन अधिकांशतः देखा गया है की महिलाये खाना तो खाती हैं लेकिन वो शरीर में पोषक तत्वों को पहुचने में कोई ध्यान नहीं देतीं हैं| ये पोषक तत्व खून को बढाते हैं, नशों को मजबूत करते हैं, साथ ही मानशिक और शारीरिक बल प्रदान करते हैं| इसलिए अबॉर्शन कराने वाली महिलाओं को फलों का सेवन भी करना चाहिए|

4. मल्टीविटामिन और मल्टीमिनिरल्स:


आप कितना भी खाना क्यों न खा लें, फल खा ले, मेवे खा ले, हरी सब्जियाँ खा लें फिर भी आप अपने शरीर में एक दिन में ज़रूरी मल्टीविटामिन और मल्टीमिनिरल्स नहीं पहिंचा पाएंगे| हाँ यदि आप सभी सब्जियाँ, सभी फल और सभी प्रकार के मेवे खायेंगे तो इसकी पूर्ति ज़रूर हो जाएगी, लेकिन ऐसे में आपको लगभग एक टाइम में 5-6 किलो खाना खान पड़ेगा, जो की संभव नहीं है| ऐसे में गर्भवती महिला को या अबॉर्शन कराने वाली महिलाओं को मल्टीविटामिन और मल्टीमिनिरल्स लेना बहुत ज़रूरी है|


गर्भपात के बाद सावधानियां


इतना सब कुछ हो जाने के बाद यदि शरीर की देखभाल करने के साथ साथ आपने सावधानियां नहीं बरतीं तो हो सकता है कि आपकी सेहत पर बुरा असर पड़े| लम्बे समय के बाद हुआ गर्भपात बच्चे को जन्म देने के बराबर ही है क्यों की आपका बच्चा परिपक्व हो चुका होगा| तो चलिए जान लेते है की वो कौन सी सावधानियां है जो महिला को अबॉर्शन कराने के बाद ध्यान देनी चाहिए|


  • शरीर को साफ़ रखें जिससे कि कीटाणु या विषाणु शरीर में प्रवेश न कर सके|
  • तनाव मुक्त रहें|
  • समय पर भोजन करें|
  • गुनगुने पानी का सेवन करें, कम से कम 3 माह के बाद सादा या ठंडा पानी पिए|
  • सिट बाथ ले|
  • खान पान का ध्यान रखे और ऊपर बताई हुई चीजों को खाए|
  • प्रतिदिन व्यायाम करें|
  • सुबह शाम 20 से 30 मिनट टहलें|
  • डॉक्टर द्वारा दी गयी दवाओं को समय पर ले|
  • बाज़ार के खाने का सेवन बिलकुल भी न करें केवल पोष्टिक भोजन ही करें|
  • पानी का अधिक सेवन करें|
  • सलाद अवश्य लें|
  • खून बढ़ाने वाले फल और सब्जियों को ज़रूर ले|
  • भरपूर नीद लें और दिन में भी आराम करें|
  • मानशिक मजबूती के लिए ॐ का जाप या महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें|

सावधानियां जितनी बरत सकें उतना अच्छा है लेकिन यदि आपके डॉक्टर ने जो आपको सलाह दी है use ज़रूर ध्यान रखें|

मेरे विचार:

माँ बनना एक सुखद अनुभव है इसके अहसास को पन्नों पर नहीं उतारा जा सकता है, इसे तो केवल एक माँ ही महसूस कर सकती है| गर्भपात को आज कल के युवा वर्ग ने खेल समझ रखा है और अनजाने में ऐसे कामो को अंजाम देने के बाद गर्भपात जैसे कदम उठाते हैं| कुछ तो इसे खेल समझकर बार बार करते हैं या ऐसी गोलोयों का सेवन करतीं हैं की जिनके गर्भपात होता है इसलिए आप ऐसे कदम उठाने से पहले गर्भपात के नुकसान के बारे में जान लें और समझ ले कि आपके लिए क्या सही है और क्या गलत|

आज के इस article के माध्यम से मैंने आपको गर्भपात क्या होता है, गर्भपात के साइड इफेक्ट, गर्भपात के बाद क्या खाए और गर्भपात के बाद सावधानियों की जानकारी दी है| आशा करती हूँ की आपको ये पसंद आई होंगी और आपको इसके बारे में जानकारी मिली होगी|


This post have 0 comments


EmoticonEmoticon

Next article Next Post
Previous article Previous Post