.

Saturday, October 01, 2016

[मूली खाने के फ़ायदे] Muli Khane Ke Fayde Kya Hain

author photo

muli khane ke fayde in hindi


मूली खाने के फ़ायदे बहुत हैं (Muli khane ke fayde), आपको गैस का प्रॉब्लम हो, आपको लीवर की समस्या हो, आपको पीलिया हो या आपको बवाशीर की प्रॉब्लम हो| वैसे इसे खाने के बहुत लाभ हैं, कुछ तो हम लोग जानते हैं कुछ नहीं भी जानते हैं,लेकिन आयुर्वेद में मूली खाना अच्छा बताया गया है| ये हमारे पाचन तंत्र को मजबूत करती है, साथ ही पेट से जुडी हर समस्या में लाभकारी भी है| मूली एक सस्ती सब्जी है लेकिन गुणों के मामले में ये बहुत गुणवान है| अछि साफ़ और पतली मूली जिसमे पत्ते भी लगे हों , को खाने से बहुत लाभ है| चलिए कुछ बीमारियों के बारे में जानते हैं की मूली किन किन बीमारियों में फायदा देती है|



बवाशीर (Piles) में: 

मूली बहुत ही गुणकारी सब्जी है और इसे हफ्ते में 1 बार ज़रूर खान चाहिए| बवाशीर के इलाज के लिए मूली का उपयोग किया जा सकता है, मैं आपको इसके लिए एक अच्छा घरेलु नुस्खा बताता हूँ| सबसे पहले मूली को खोखला कर ले अब उसमे 20 ग्राम रसौत भर दे| अब कुछ उपले जला ले और इसपर आग आने पर मुलिया इस पर रख दे, जब सारी मुलिया भस्म हो जाये तो उनमे से रसौत के बीज बाहर निकाल लें| अब इन बीजो को मूली के रस में डाल कर बड़ी बड़ी गोलिया बना ले| अब रोज सुबह शाम एक एक गोली खाए, आपको बवासीर में ज़र्रोर फायदा मिलेगा |


पीलिया (Jaundice) हो जाने पर:

पीलिया यानि की Jaundice एक खतरनाक बीमारी है इसमें मरीज का शरीर पीला होता जाता है यानि की उसमे हीमोग्लोबिन की कमी होती जाती है, साथ ही मरीज का लीवर भी बहुत कमज़ोर हो जाता है, किसी किसी को तो कुछ भी खाने पर उल्टियाँ आ जाती हैं| वैसे तो आयुर्वेद में कई काढ़े आते हैं जिसे पीने से पीलिया बहुत जल्दी कवर किया जा सकता है| लेकिन इसके साथ मरीज को गन्ने का रस और मूली का सेवन करना चाहिए| ये दोनों ही लीवर को मजबूत बनाते हैं|


पेट की समस्या में:

यदि किसी का पेट ख़राब हो जैसे की गैस की प्रॉब्लम, पेट का फूलना, पेट का दर्द और पेट में मरोड़ की समस्या, अगर इनमे से कोई भी परेशानी है तो आपको रोजाना मूली खानी चाहिए| मूली पेट के लिए अत्यधिक लाभकारी है|


भूख न लगने पर:

कभी कभी किसी को कम भूख लगती है तो इस प्रॉब्लम से निपटने के लिए मूली खाना शुरू कर दे, क्यों की मूली हमारे पाचन तंत्र को अच्छा बनाता है और जब हम्रारा भोजन अच्छी तरह से पचने लगता है तो हमें भूख लगती है| यदि पेट फूल रहा है तो इसका मतलब है की खाना अभी पेट में रुका हुआ है जो की पच नहीं पाया है|


पेट में कीड़े (Tape-worm) हो जाने पर:

छोटे छोटे बच्चे कुछ भी खा लेते हैं, बाहर का धुल भरा खाना खाने से या जमीन का गिरा हुआ खाने से अक्सर पेट में कीड़े पैदा हो जाते हैं इसके लिए कच्ची मूली खाना बहुत लाभकारी रहता है, और पेट के कीड़े बाहर निकल आते हैं|


हाई ब्लड प्रेशर (High-Blood Pressure) मे:

हाई ब्लड प्रेशर को कोन्त्रिल करने के लिए आयर इसे कम करने के लिए मूली लाभकारी है, इसलिए ब्लड प्रेशर के मरीज को इसका नियमित सेवन करना चाहिए|


पेशाब के रोग में:

अगर आपको पेशाब से जुदा कोई भी रोग है तो मूली के आचार का इस्तेमाल करें, इसमें आप काली मिर्च और काला नमक मिलकर बनाये| अगर पेशाब रूककर आती है तो इसमें फायदा होता है क्यों की ये पित्त और तिल्ली को दुरुस्त करता है|


दाद की समस्या:

दाद की प्रॉब्लम को दूर करने के लिए मूली के बीज , गंधक , अमल्सार, गूगल सभी को 20-20 ग्राम में ले लें| अब इसमें 1 ग्राम तूतिया मिलाये, अब इस मिश्रण को पानी के साथ घिस ले और दाद पर लगाये आपको दाद में ज़रूर फायदा होगा|

तो आज आपने जाना मूली खाने से क्या फायदा (Muli khane se kya fayda hai) होता है, किन किन रोगों के लिए मूली फायदेमंद होती है, पेट से लेकर पेशाब के रोगों तक के लिए मूली खाना अच्छा बताया गया है, बल्कि मैं कहूँगा की सर से लेकर पाव तक के सभी रोगों का निवारण करती है मूली|



This post have 0 comments


EmoticonEmoticon

Next article Next Post
Previous article Previous Post

ये भी पढ़ें: