.

Tuesday, January 03, 2017

[बबासीर का होम्योपैथिक इलाज ] Homeopathic Medicine For Piles or Hemorrhoids | Dr.Reckeweg R13

author photo

what is the best homeopathy medicine for piles in hindi


Piles Ke Liye Best Homeopathic Medicine



पाइल्स बहुत कॉमन बीमारी है ये एक ऐसी बीमारी है जिसमे आपको दिन बार बेचैनी सी रहती है itching होती है जलन होती है, pain होता है और कभी कभी तो ब्लीडिंग भी होती है पाइल्स 2 टाइप की होती है एक इंटरनल पाइल्स(internal piles) और एक एक्सटर्नल पाइल्स(External piles) होता है. इंटरनल पाइल्स में कम पैन या न के बराबर पैन होता है और एक्सटर्नल पाइल्स में अधिक पैन होता है. वैसे तो एलॉपथी में भी इसका इलाज है लेकिन में पाइल्स के लिए होम्योपैथिक ट्रीटमेंट की सलाह देता हूँ. आज हम जानेंगे बवासीर का होम्योपैथिक इलाज और बवासीर के सिम्पटम्स (Piles ke symptoms) क्या हैं. 
 
आज मैं आपको डॉ.रेचकेवेग की होम्योपैथिक ट्रीटमेंट (Dr. Recheveg homeopathic treatment for piles in hindi) के बारे में बताउगा जिससे आपको पाइल्स में होने वाले पैन से तो आराम मिलेगा ही साथ में ब्लीडिंग से भी आराम मिलेगा. इस मेडिसिन ने पाइल्स के कई पेशेंट्स को आराम दिलाया है , और अगर आप भी इस मेडिसिन को इस्तेमाल करेंगे तो आप को भी पाइल्स से आराम मिलेगा. हेमोर्रोइड्स में मल त्याग के बाद भी पैन रहता है और लगभग १० मिनट्स तक बना रहता है , मल त्याग के टाइम संकुचन का फील होता है. पाइल्स में मस्से (डार्क रेड कलर के) Anus के बाहर आ जाते है जो की अंदर भी हो जाता है.



Causes (कारण):


पाइल्स या बवासीर होने के क्या क्या कारण हो सकते हैं यह जानना बहुत ज़रूरी है क्यों की अगर आपने इनको नज़रंदाज़ किया तो पाइल्स कभी भी सही नहीं हो सकता है , यह कुछ समय के लिए जा सकता है और या फिर से वापस आ जायेगा| इसलिए किन कारणों से पाइल्स हो सकता है. इसके लिए मैं आपको कुछ पॉइंट्स बताता हूँ.


        1)    Constipation (कब्ज): लम्बे टाइम तक कॉन्स्टिपेशन का बना रहना पाइल्स का मुख्य रीज़न होता है ऐसा इसलिए होता है क्यों की Constipation में हम प्रेशर लगते है और जिससे मास्सा बहार आ जाता है.

        2)    Pregnancy  : प्रेगनेंसी में भी पाइल्स होने के चान्सेस हो जाते है क्योंकि प्रेगनेंसी में रेक्टम पर प्रेशर होता है

         3)    कभी कभी Fissure के साथ भी पाइल्स हो जाता है.




Indication of  R13 (कब ले R 13):



आप Reckeweg की R13 कब कब ले सकते हैं ज़रा इस पर प्रकाश डालते हैं.


1)    Constipation me
2)    Stomach ka bharipan hone par.
3)    Piles aur bleeding piles
4)    Anus me itching hone par
5)    Hard stool (कठोर मल) me bhi le sakte hai.
6)    Anus (गुदा) me jalan (Burning sensation) hona.
7)    Fissure me bhi use kar sakte hai.
8)    Dyspepsia me
9)    Defecation (मल त्याग) ke baad bhi pain ka bana rahna.




Treatment :


Piles में Dr.Reckeweg की Homeopathic medicine  R 13 का use करने से आप पाइल्स को ठीक कर सकते हैं. और जितने भी पॉइंट मैंने बताये हैं उनमे भी आप इसका use कर सकते हैं.


Dose:


10-15 ड्रॉप्स दिन में 3 बार 1/4 कप पानी के साथ ले, अगर आप्नको समस्या ज्यादा लग रही है तो १०-१५ ड्रॉप्स दिन में ४-६ बार ले, और 7 दिनों तक लेते रहें| बीमारी के पूरी तरह से ठीक हो जाने पर , कुछ लम्बे टाइम तक 5-8 ड्रॉप्स दिन में 2 बार ले|



Note:

Ab me aapko Dr. Reckeweg ki kuch aisi drops bata raha hu jo ki others conditions me bhi le sakte hai.

R 7 – Liver se related problem me aap R 7 bhi le sakte hai.

R 31- Bleeding piles me R 13 ke sath agar aap R 31 bhi le to acha result hota hai.



होमियोपैथी के ट्रीटमेंट के साथ आपको नीचे दी गयी कुछ बातो का भी ध्यान देना होगा|

कॉन्स्टिपेशन होने पर दफेकशन जरूरी है. ब्रेकफास्ट और डिनर के फ़ूड में फाइबर फ़ूड लेने चाहिए फ्रूट्स ले , लिक्विड को भी  अधिक मात्रा में लेना चाहिए|


Precaution :

जैसा की मेने आपको बताया है की कॉन्स्टिपेशन ही पाइल्स का मेन रीज़न होता है , इसलिए कॉन्स्टिपेशन को दूर करना बहुत जरूरी है , और कॉन्स्टिपेशन को दूर करने का तरीका भी मेने आपको ऊपर बताया है. तो आप जान चुके हैं  bawaseer ka homeopathic ilaj kaise kare .


Yah medicine Dr. Reckeweg ke dwara banayi gayi hai. jiske bare me detail se padhne ke liye www.reckeweg-india.com par jaye.


Must Read:  Homeopathic Medicine Kaise aur kab le. [Rules]

Hamse judne ke liye Aap hamre news-latter ko join kar sakte hain. Jisse ki hum aapko Email se naye article bhejte rahenge. Aapko hamre article kaise lagte hain hame zaroor bataye aur article ko padhne ke baad share zaroor kare. Kyo ki isse kisi ki help ho sakti hai. Aur aap jante hai hain “ मदद करना एक अदभुद अहसास है To is eke sath main chalta hoon Aur next article me Milte hain. “ स्वस्थ रहे – समृद्ध रहे ”.

1 comments:


EmoticonEmoticon

Next article Next Post
Previous article Previous Post

ये भी पढ़ें: